भारतीय राज्य व्यवस्था – राज्य सभा

 

Ø राज सभा का गठन की संरचना

·         भारतीय संविधान के अनुच्छेद 79 में यह उल्लेख किया गया है कि संसद का गठन होगा

 

·         भारतीय संविधान का अनुच्छेद 80 राजसभा के गठन का प्रावधान है

 

·         राज सभा सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 होती हैं , परंतु वर्तमान में 245 है

·         अनुच्छेद 80 में राष्ट्रपति 12 सदस्यों को मनोनीत करता है

·         13 अप्रैल 1952 राज्यसभा को गठित किया गया

·         13 मई 1952 राज सभा की पहली बैठक किया गया

·         23 अगस्त 1954 में  राजसभा नाम पड़ा



Ø चुनाव प्रक्रिया को दो भागों में बांटा गया है



       1. एकल संक्रमणीय या अनुपातिक  पद्धति:इसमें वरिष्ठता क्रम में दो है पहला गुप्त चुनाव दूसरे खुला चुनाव गुप्त चुनाव में राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति का होता है खुला चुनाव राज्यसभा और विधान परिषद का होता है

     

      2. अग्रता ही विजेता (फर्स्ट पार्ट ऑफ पोस्ट ):- इस प्रक्रिया में आम चुनाव (लोकसभा सांसद), विधानसभा (विधायक),मुखिया,सरपंच, वार्ड, का चुनाव होता है



Ø प्रत्येक राज्य में कितने राज्य सभा होते हैं:

1.    इसका निधारण राज्य विशेष्य की जनसंख्या के आधार पर होता है

2.    अनुसूचित 4 में इस बात का उल्लेख मिलता है कि किस राज्य से राज्यसभा के लिए कितने सदस्य होंगे



  राज्य                     राज्यसभा की सीटें   लोकसभा की सीटें



1.उत्तर प्रदेश               31                      80



2.महाराष्ट्र                  19                        48



3.तमिलनाडु              18                         39



4.पश्चिम बंगाल          16                          42



5.बिहार                   16                          40



6.कर्नाटक                12                           28



7.मध्य प्रदेश              11                         29



8.गुजराती                11                            26



9.आंध्र प्रदेश             11                           25



10. राजस्थान             10                           25



11.उड़ीसा                10                             21



12.केरला                 9                                20



13. तेलंगना              7                                17

 


14.ऑसम                7                                 14



15.पंजाब               7                                   13



16.झारखंड            6                                  14



17.छत्तीसगढ़          5                                   11



18.हरियाणा            5                                   10



19.जम्मू कश्मीर         4                                 6



20.हिमाचल प्रदेश          3                              4



21. उत्तराखंड             3                                 5

 

22.दिल्ली                  3                                  7

 


23.अरुणाचल प्रदेश       1                             2



24.गोवा                      1                           2



25.मणिपुर                   1                         2



26.मेघालय                   1                       2



27.मिजोरम                   1                       1



28. नागालैंड                   1                     1



29.सिक्किम।                   1                    1



30. त्रिपुरा                      1                      1



31.पांडुचेरी।                    1                    1



Ø राज सभा के सदस्यों का निर्वाचन

 

·  इनके सदस्यों का निर्वाचन अनुपातिक प्रतिनिधित्व पद्धति द्वारा एकल संक्रमणीय मत के आधार होता है

·  इस बात का उल्लेख लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 में किया गया है

·  भारतीय संविधान के अनुच्छेद 80 (4 )में इस बात का इस बात का उल्लेख किया गया है कि राज्य विधान मंडल के निर्वाचित सदस्य (जो मनोनीत नहीं है ) राज्यसभा के सदस्यों का चयन किया जाएगा

Ø राज्य सभा के सदस्यों की अहताये

·  भारतीय संविधान के अनुच्छेद 84 में संसद में सदस्यों के लिए अहताये या योग्यताएँ  का उल्लेख किया गया

·  वह भारत का नागरिक हो

·  30 वर्ष आयु पूरा कर चुका हूं

·  किसी लाभ का पद पर ना हो

·  मानसिक रूप से विकृत ना हो

 

Ø राज्यसभा के सदस्यों का कार्यकाल

 

·  यह एक स्थाई सदस्य है जो कभी भी विघटित  नहीं होता है इस बात को लेकर अनुच्छेद 83 (1)में किया गया।

·  अनुच्छेद 83 (1)  में इस बात का उल्लेख किया गया कि प्रत्येक 2 वर्ष पर राज्यसभा के 1/3 सदस्य  सेवानिवृत्त होंगे अतः प्रत्येक सदस्य का कार्यकाल 6 वर्षों का होता है।



Ø राज्य सभा के पदाधिकारी

 

·  राजसभा में दो पदाधिकारी होते हैं– 1. सभापति  2.उपसभापति

·  अनुच्छेद 89 में इस बात का उल्लेख किया गया कि भारत का उपराष्ट्रपति राज्यसभा का पदेन सभापति होगा।

·  राज्य सभा के सदस्य द्वारा उसी सदन के किसी व्यक्ति को उपसभापति हेतु निर्वाचित किया जाता है

·  राज सभा के सभापति एवं उपसभापति को भारत की संचित निधि से वेतन दिया जाता है।

·  राज सभा के सभापति को हटाने के लिए 14 दिन पूर्व सूचना के साथ राजसभा में प्रस्ताव पास किया जाता है

·  यदि उपराष्ट्रपति चाहे तो स्वयं ही राष्ट्रपति को त्यागपत्र दे सकते हैं

·  उपसभापति को निम आधारों पद मुक्त किया जा सकता है

1.    राजसभा की सदस्यता की अवधि समाप्ति पर।

2.    सभापति को अपना त्यागपत्र देकर

3.    राजसभा के समस्त सदस्यों के बहुमत से संकल्प पारित करते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *